breaking newsबिहार

प्र0 भोजपुरी समाज मानवता वादी राष्ट्र का निर्माण करेंगा-सुशील रंजन

भोजपुरी समाज ही समाज,आर्थिक इकाई और नव्य मानवता बाद का आधारशिला रख सकता है।

slide

भोजपुर प्रदेश-आरा

प्रगतिशील भोजपुरी समाज का

दिनांक 29 सितंबर 2019 को प्रगतिशील भोजपुरी समाज के तत्वधान में नागरिक प्रचारणी भवन आरा में ” नव्य मानवता वादी राष्ट्र के उदय में समाज की भूमिका ” विषय पर विचार गोष्ठी आयोजित की गई । विचार गोष्ठी को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता प्राउटिस्ट सर्व समाज के महासचिव सुशील रंजन ने कहा कि सभी प्रकार के संकीर्ण मनो धारा से मुक्ति ही नव्य मानवतावाद है ।जो भारत में अधिवास करने वाली सभी चौवालिस जन गोष्ठीओ की संस्कृति व परंपरा से अभिव्यक्त होती है। क्योंकि इन सब में भगवान सदाशिव का आध्यात्मिक संदेश रसा वसा हुआ है। इसलिए इन सभी जन गोष्ठी की संस्कृति को पुनर्जागृत करना होगा। और इसके लिए सबके मातृभाषा को सम्मान देना ही होगा।
मुख्य अतिथि डॉ राम तबक्या सिंह और विशिष्ट अतिथि डॉक्टर बलराम ठाकुर ने भोजपुरी भाषा को संविधान की अष्टम सूची में लाने के लिए आंदोलन पर छोड़ दिया ।
साहित्यकार डॉ रविंद्र शाहावादी ने अपने संबोधन में कहा कि भोजपुरी भाषा पूर्ण भाषा है और यह अपने आप में संस्कृति है जिसे आज भोगवादी विचारधारा के लोग विकृत करने का कुचक्र चला रहे हैं।
भोजपुरी महिला समाज के सचिव श्रीमती लक्ष्मी देवी ने कहा कि भोजपुर प्रदेश उन्नत संस्कार पैदा करने वाली संस्कृति को धारण किए हुए है जिसे सस्ते साहित्य और सिनेमा के माध्यम से अश्लीलता परोस कर बर्वाद किया जा रहा है जिसे बर्दाश नहीं किया जा सकता।
गोष्ठी को उत्तर प्रदेश पी एस एस के प्रदेश अध्यक्ष विश्वनाथ मौर्य, भोजपुरी समाज के सचिव प्रवीण देव, चैतन्य कुमार इत्यादि ने भी संबोधित किया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता तिलक धारी सिंह एवं संचालन बिहार पी एस एस के प्रदेश अध्यक्ष ध्रुव नारायण प्रसाद ने किया।

Reported by Ara Reporter

Total Page Visits: 58 - Today Page Visits: 2
Show More

Related Articles

Back to top button
Close