breaking newsBusiness

देश हैजा से परेशान

देश के लोगो के पास साइकिल खरिदने की भी स्थिति में नही

slide

नई दिल्ली
ऑटोमोबाइल सेक्टर बंद के कगार पर

आपको बता दे कि आज भारत की ऐसी स्थिति हो गई है जहाँ। सुस्त अर्थव्यवस्था से ऑटो सेक्टर संभल नहीं पा रहा है। यही वजह है कि तमाम बड़ी कंपनियों ने अब अपना प्रोडक्शन कुछ दिन के लिए रोक दिया है। कंपनियों में मारुती से लेकर टाटा तक शामिल हैं। बाजारों में भयंकर नर्मी दिखाई देने लगी है। यही वजह है कि अब चारों तरफ से उद्योगपति और नौकरशाह चिंता जाता रहे हैं।

बड़े -बड़े उद्योगपति चिंतित है।

आपको बता दे कि मोदी सरकार में गिरती अर्थव्यवस्था की मार बड़े उद्योगपति झेल रहे हैं। बजाज ग्रुप के राहुल बजाज, एल एंड टी, मारुती सुजुकी के मलिक समेत तमाम लोग चिंता जाहिर कर चुके हैं। लेकिन फिर भी हैरत अंगेज तरीके से मोदी सरकार मंदी की बात से इनकार कर रही है।

यहाँ आपको जानकारी देना चाहते है कि दरअसल एक TV को इंटरव्यू देते समय शक्तिकांत दास ने कहा था कि GDP ग्रोथ रेट का 5 प्रतिशत का आंकड़ा उनके लिए चौंकाने वाला था. उनका कहना है कि GDP विकास दर का अनुमान 5.8 प्रतिशत लगाया गया था लेकिन 5 प्रतिशत के आंकड़े ने हैरान कर दिया ।

यहाँ लोगो पर एक साइकिल खरीदने के भी लाले पड़े है।

आज देश में हालत यहां तक आ गए हैं कि लोगों की साइकिल तक खरीदने के लाले पड़ गए हैं। हीरो साइकिल के मालिक और मनेजिंग डायरेक्ट पंकज मुंजाल ने अपनी नई इलेक्ट्रिक साइकिल के लॉन्च के मौके पर कहा कि, “मैंने अपने जीवन में ग्रोथ रेट का गिरना देखा है। लेकिन इस तरह से गोर्थ रेट का सुकुड़ना 55 साल में ऐसा कभी नही देखा था।

बंद किया कारखाना

आपको बता दे कि भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी जिसे देश के करीब 50% लोग मारुति सुजुकी की गाड़ी इस्तेमाल करना पसंद करते है उस कंपनी ने 7 सितंबर और 9 सितंबर 2019 को गुरुग्राम और मानेसर संयंत्रों में नो-प्रॉडक्शन डे की घोषणा की। स्टॉक एक्सचेंजों को दिए एक बयान में, मारुति सुजुकी इंडिया ने कहा कि उसने गुरुग्राम और मानेसर के प्लांट को बंद करने का फैसला किया है। बीते 10 साल में ऐसा पहली बार हुआ है कि दोनों प्लांट से एक भी कार नहीं बनेगी। इन दोनों प्लांट्स की क्षमता सालाना 15 लाख से ज़्यादा कार बनाने की है।

दरअसल मारुति सुजुकी इंडिया ने अगस्त में अपने उत्पादन में 33.99% की कटौती की थी, जिससे यह सातवां सीधा महीना बन गया कि देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी ने अपना उत्पादन घटा दिया।

मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) ने सोमवार को बीएसई को फाइलिंग में बताया कि कंपनी ने अगस्त में महीने में 1,68,325 यूनिट्स का उत्पादन किया था, जोकि पिछले साल की 1,68,725 यूनिट्स थी।

ऑटोमोबाइल सेक्टर अबतक के सबसे ख़राब दौर से गुजर रहा है। पिछले दिनों अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसी रायटर्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक वाहन निर्माता, पार्ट्स निर्माता और डीलर्स बीते अप्रैल महीने से 3.50 लाख से ज्यादा कर्मचारियों को नौकरी से निकाल चुके है। अब हुंडई मोटर इंडिया ने अपने प्लांट्स में अगस्त के दौरान प्रॉडक्शन बंद रखने का एलान किया है।

GST के कारण भी बर्बाद हुआ ऑटोमोबाइल सेक्टर

आपको बता दे कि GST भी मंदी का कारण है। दरअसल ऑटोमोबाइल सेक्टर में जीएसटी के कारण बिक्री में भारी गिरावट आई है। पिछले दिनों जहां देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारूती ने अपने उत्पादन में कमी दर्ज की वहीं टाटा मोटर्स ने अपने चार प्लांट्स को शटडाउन कर दिया है।
अब हुंडई ने एलान किया है कि बॉडी शॉप, इंजन/ट्रांसमिशन लाइन्स, पेंट शॉप, असेंबली शॉप और सपोर्ट टीम्स समेत सभी डिपार्टमेंट्स में कोई प्रॉडक्शन नहीं होगा। कंपनी द्वारा जारी नोटिस के मुताबिक, हुंडई ने पहले से 10-12 अगस्त की अवधि को बॉडी, पेंट, असेंबली शॉप्स और सपोर्ट टीम्स डिपार्टमेंट में नो प्रॉडक्शन डेज रखा था।

Reported by Rahul Ranjan

Total Page Visits: 38 - Today Page Visits: 2
Show More

Related Articles

Back to top button
Close